PM OF INDIA

Just another WordPress site

NAREDRA MODI JI

Hero Of India

Narendra Modi Biography

Name- नरेन्द्र मोदी Full Name- नरेंद्र दामोदरदास मोदी
Birth date – 17 सितम्बर 1950
Birth place -बोम्बे स्टेट,जोधपुर
Religion- हिन्दू
Father Name-दामोदर दस मूलचंद मोदी
Mother Name- हीराबेन
Brother- सोमा:सेवानिवृत स्वास्थ अधिकारी, अभी वृद्धाआश्रम चलाते हैं
प्रह्लाद: अहमदाबाद में एक बड़ी दुकान चलते है.

पंकज मोदी :सूचना विभाग में कम करते हैं


Residence- गांधीनगर,गुजरात
Marriage- जसोदा बेन पत्नी का नाम है, लेकिन साथ नहीं रहते हैं.
Tean age- नरेन्द्र मोदी और उनके भाई चाय की दूकान चलाते हैं.
school- वाडनगर से स्कूली शिक्षा
College- गुजरात यूनिवर्सिटी
Profession- मई 2014 से भारत के प्रधानमंत्री और गुजरात के पूर्व-मुख्यमंत्री
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (Rashtriya Svyam sevak sangh) मोदी की छवि में राष्ट्रिय स्वयं सेवक का प्रभाव देखा जाता है,जिस कारण वो देस-विदेश में कई बार विवाद वश रह चूका है
राजनीतिक जीवन की शुरुआत (Initiation of the Political carrier) नागपुर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद मोदी को गुजरात क्षेत्र में बीजेपी के छात्र संघठन एबीवीपी की जिम्मेदारी सौंपी गई.
राजनीतिक पार्टी (Political party) भारतीय जनता पार्टी
निर्वाचन क्षेत्र (Constituency) मणिनगर
इनसे पूर्व मुख्यमंत्री थे (Preceded by) केशु भाई पटेल
बीजेपी में राष्ट्रीय स्तर पर मिला पहला पद (General Secretary of the BJP) महामंत्री
बीजेपी में राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद (General Secretary of the BJP) 1998 में
पहली बार गुजरात के मुख्यंत्री (First Term as Chief Minister of Gujarat (2001-02) 2001 में केशुभाई पटेल को हटाकर मोदी को पहली बार मुख्यमंत्री पद दिया गया.
पहले कार्यकाल में विवाद(controversy during first term) 2002 में गोधरा काण्ड और गुजरात हिंसा के कारण मोदी बहुत बड़े विवाद में उलझ गए थे.
2002 में चुनाव में जीत (Modi win in Elections of 2002) कुल 182 सीट्स में से 127 सीट पर बीजेपी की जीत हुई
दुसरे कार्यकाल में मोदी (Second Term as Chief Minister of Gujarat (2002-07) 2002- से 2007 के अपने दुसरे कार्यकाल में मोदी ने अपना पूरा ध्यान हिंदुत्व से हटाकर आर्थिक विकास पर लगा दिया. और उनके आलोचकों की संख्या भी बढ़ गयी.
2007-2008 के चुनाव (Elections in 200
7-2008)

एफडीआई मैगज़ीन ने नरेंद्र मोदी को “एफडीआई पर्सनालिटी ऑफ़ दी ईयर” का एशियन विनर घोषित किया गया.

STARTING OF POLITICAL LIFE OF MODI JI

STARTING OF POLITICAL LIFE

मोदी का शुरूआती राजनैतिक जीवन (Initial political life)

नरेंद्र मोदी के प्रारम्भिक जीवन में ही राजनीतिक दिशा तय हो गयी थी, जब उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जॉइन किया था. 1960 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध के समय वो अकेले ऐसे बच्चे थे, जो कि रेलवे स्टेशन पर जवानों को अपनी सेवाए देते थे.

फिर युवावस्था में उन्होंने अखिल भारतीय विधार्थी परिषद को जॉइन कर लिया. अपना पूरा समय उन्हें देने के बाद उन्हें बीजेपी के प्रतिनिधि के तौर पर चुन लिया गया. शंकर लाल वाघेला के साथ मिलकर मोदी ने गुजरात में बीजेपी के लिए एक आधार तैयार किया था.

अप्रैल 1990 में पार्टी को देश में राजनीतिक पहचान मिलनी शुरू हुयी थी, जिसके बाद 1995 में गुजरात में बीजेपी सत्ता में आई. इस दौरान मोदी को सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक की रथ यात्रा की जिम्मेदारी सौंपी गई और इसी तरह कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक की यात्रा में भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

राष्ट्रीय स्तर पर इमरजेंसी के दौरान भी मोदी ने मुरली मनोहर जोशी की एकात्म यात्रा में भी अपना योगदान दिया था,और अपनी राज्य में होने वाले 1995 में चुनावी रणनीति से सभी को प्रभावित भी किया.

बीजेपी ने जैसे ही जीत हासिल की मोदी को पार्टी का महामंत्री भी बना दिया. और इस तरह कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार सेवक नयी दिल्ली पहुँच गए, जहाँ उन्हें हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में पार्टी की गतिविधियों की जिम्मेदारी भी मिल गयी.

जुलाई 2007 में वो गुजरात के इतिहास में लगातार सबसे ज्यादा  समय तक मुख्यमंत्री पद पर रहने वाले मुख्यमंत्री बन गए. 2012 में गुजरात के विधान साभा चुनावों में मोदी अपने मणिनगर चुनाव-क्षेत्र में कोंग्रेस के सामने 86,373 के वोटों के साथ जीते. बीजेपी ने 182 में से 115 सीट हासिल की और गुजरात में अपनी सरकार बनाई. यह नरेंद्र मोदी का मुख्य मंत्री बनना 4th बार था. इसके बाद के आगामी वर्ष में वो बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड  के सदस्य बना दिए गए जो पार्टी की सबसे बड़े निर्णय लेने वाला भाग था. वो पार्टी के सेंट्रल इलेक्शन कमिटी में सदस्य के रूप में भी नामांकित किये गएअपनी सरकार बनाई. यह नरेंद्र मोदी का मुख्य मंत्री बनना 4th बार था. इसके बाद के आगामी वर्ष में वो बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड के सदस्य बना दिए गए जो पार्टी की सबसे बड़े निर्णय लेने वाला भाग था. वो पार्टी के सेंट्रल इलेक्शन कमिटी में सदस्य के रूप में भी नामांकित किये गए

पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बनना (First Stint as Chief Minister of Gujarat- 2001 to 2002)

7 अक्टूबर 2001 को मोदी को गुजरात का पहला मुख्यमंत्री बनाया गया. उन्हें 2002 के चुनावों की तैयारी की जिम्मेदारी दी गई मोदी ने उस समय छोटे सरकारी संस्थाओं के विकास पर काम किया

शंकर सिंह वाघेला के बीजेपी छोड़ने के बाद पार्टी ने केशु भाई पटेल को मुख्यमंत्री बनाया और तब मोदी को दिल्ली भेज दिया गया. लेकिन 2001 में भुज में आए भूकम्प के प्रभाव को संभालने के लिए बीजेपी को गुजरात में मुख्यमंत्री  पद के लिए नए उम्मीदवार की जरूरत महसूस हुयी.

केशु भाई पटेल को हतकार 2001 में मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया,तब मोदी के पास कोई तरह का प्राशासनिक अनुभव नहीं था. हालांकि शुरू में पार्टी उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाना चाहती थी बल्कि उन्हें उप-मुख्यमंत्री का पद देना चाहती थी,जिसके लिए मोदी ने मना कर दिया. मोदी ने तब आडवानी और तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल-बिहारी वाजपेयी को पत्र लिखकर ये कहा कि वो या तो गुजरात की पूरी जिम्मेदारी संभालेंगे या फिर बिलकुल नहीं.

2002 गुजरात दंगे (2002 Gujarat violence)

27 फरवरी 2002 से गुजरात में साम्प्रदायिक हिंसा भडक गयी, जिसमे गोधरा के पास ट्रेन में तीर्थ-यात्रा को  जा रहे, ज्यादातर हिन्दू यात्री जिनकी संख्या लगभग 58 थी, वो मारे गए. जिसके कारण राज्य में एंटी-मुस्लिम हिंसा शुरू हो गई और ये हिंसा गोधरा से शुरू होकर पूरे राज्य में फ़ैल गई. इसके कारण लगभग 900 से 2000 तक लोग मारे गए. नरेंद्र मोदी की गुजरात सरकार ने हिंसा पर काबू पाने के लिए कई शहरों में कर्फ्यू लगा दिया.

मानव अधिकार आयोग,मीडिया और विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार के खिलाफ घेराबंदी शुरू कर दी. इसके लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा 2009 में एक विशेष इन्वेस्टीगेशन टीम (SIT) भी बनाई गई

W

मुश्किल समय Narendra Modi ke liye

मोदी का मुश्किल समय तब शुरू हो गया जब उन्हें गांधीनगर के 200 अवैध मंदिरों को ध्वस्त करने का निर्णय लिया, इससे विश्व हिन्दू परिषद से उनके विवाद हुआ. मोदी, मनमोहन सिंह के एंटी-टेरर कानून पर असहमत होने पर भी बोले थे. उन्होंने 2006 में मुंबई में हुए ब्लास्ट पर कठोर कानून बनाने को कहा, लेकिन केंद्र पर प्रभाव ना देखते हुए कुछ समय बाद उन्होंने फिर से केंद्र की सरकार के कानून और सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल लगाये.

WORK OF MODI JI

मोदी सरकार की वर्तमान योजनाए और उद्देश्य (Vrious Schemes of Modi Government)

मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद से विदेशी व्यापारियों को भारत में इन्वेस्ट करने के लिए प्रेरित किया है. मोदी ने कई नियमों में बदलाव किये, मोदी ने सोशल वेलफेयर कार्यक्रम पर खर्चे कम करके स्वास्थ में निजीकरण पर खर्च को बढाया हालांकि उन्होंने गंभीर रूप से बीमार नागरिकों के लिए यूनिवर्सल हेल्थ केयर पालिसी भी बनाई. 2014 में मोदी ने “क्लीन इंडिया” कैम्पेन भी चलाया, जिसका उद्देश्य ग्रामिण क्षेत्रों में मिलियन शौचालय बनाना था

प्रधानमंत्री जन-धन योजना जिसका उद्देश्य आर्थिक विकास हैं,साफ़-सुथरे देश के लिए स्वच्छ भारत अभियान, बीपीएल परिवारों को एलपीजि उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री उज्ज्वल योजना जैसी कई योजनाये अभी देश में क्रियान्वित हो रही हैं.

इसके अलावा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना,फसल बीमा योजना,मुद्रा बैंक योजना,प्र्दाहन्म्नात्री कौशल विकास योजना,मेकइन इंडिया,गरीब कल्याण योजना, ई-बस्ता,सुकन्या समृद्धि योजना,पधे भारत-बढे भारत,

ग्रामीण कौशल योजना,नयी मंजिल योजना,स्टैंडअप योजना,अटल पेंशन योजना,प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना,जीवन ज्योति बीमा योजना,सागर माला प्रोजेक्ट,प्रधानमंत्री आवास योजना,जन-औषधि स्कीम,डिजिटल इंडिया,डीजीलॉक,स्कूल नर्सरी योजना जैसी कई योजनाओ को मोदी जी द्वारा शुरू कर आम-जन को लाभान्वित करने की कोशिश की जा रही हैं.

BOOKS WRITTEN BY NARENDRA MODI JI

नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी गयी किताबें (Books written by Narendra Modi)

ज्योतिपुंजज्योतिपुंज में उन सभी लोगो के बारे में लिखा गया हैं जो नरेंद्र मोदी को प्रभावित करते हैं और जिनका मोदी की कार्य-शैली पर बहुत प्रभाव हैं, इसमें मोदी ने अपने प्रचारक जीवन में जिन लोगों से प्रेरणा ली उनके बारे में लिखा है.
एडोब ऑफ़ लव-यह किताब नरेंद्र मोदी की लिखी हुयी 8 छोटी कहानियों का संग्रह हैं. यह मोदी ने बहुत कम उम्र में लिख ली थी. यह उनके संवेदात्मक और स्नेह युक्त व्यक्तित्व को दिखाती है.

प्रेमतीर्थ’- यह भी कहानियों का संग्रह ही हैं जिसमे मोदी ने माँ के प्यार को बहुत ही आम और प्रभावी भाषा में समझाया हैं.
केल्वे ते केलवानी – यह किताब गुजरती भाषा में लिखी गईं हैं जिसका मतलब होता हैं “शिक्षा वो होती हैं जो पोषण देती हैं” वास्तव में यह मोदी के बुद्धिमत्ता पूर्ण वक्तव्यों का संग्रह हैं.

नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी गयी किताबें (Books written by Narendra Modi)

ज्योतिपुंजज्योतिपुंज में उन सभी लोगो के बारे में लिखा गया हैं जो नरेंद्र मोदी को प्रभावित करते हैं और जिनका मोदी की कार्य-शैली पर बहुत प्रभाव हैं, इसमें मोदी ने अपने प्रचारक जीवन में जिन लोगों से प्रेरणा ली उनके बारे में लिखा है.
एडोब ऑफ़ लव-यह किताब नरेंद्र मोदी की लिखी हुयी 8 छोटी कहानियों का संग्रह हैं. यह मोदी ने बहुत कम उम्र में लिख ली थी. यह उनके संवेदात्मक और स्नेह युक्त व्यक्तित्व को दिखाती है.
प्रेमतीर्थ’- यह भी कहानियों का
संग्रह ही हैं जिसमे मोदी ने माँ के प्यार को बहुत ही आम और प्रभावी भाषा में समझाया हैं.
केल्वे ते केलवानी – यह किताब गुजरती भाषा में लिखी गईं हैं जिसका मतलब होता हैं “शिक्षा वो होती हैं जो पोषण देती हैं” वास्तव में यह मोदी के बुद्धिमत्ता पूर्ण वक्तव्यों का संग्रह हैं.
साक्षीभाव – यह जगत जननी माँ को लिखे पत्रों की सीरीज है. यह मोदी के अंतर्मन और उनके भावों को बताती हैं
सामाजिक समरसता- यह नरेंद्र मोदी के लेक्चर और आर्टिकल का संग्रह हैं,किताब “अपनी राय को सिर्फ शब्दों में हीं नहीं कामों से भी व्यक्त करो” इस किताब के लिए उपयुक्त मुहावरा हैं. किताब मोदी के सामाजिक सामंजस्य की समझ को बताती हैं जिसमे जाति आधारित कोई वर्गीकरण ना हो.
कन्वीनिएँनट एक्शन: गुजरात रेस्पोंस टू चैलेंजस ऑफ़ क्लाइमेट चेंज : (Convenient Action: Gujarat’s Response to Challenges of Climate Change) अंग्रेजी में प्रकाशित यह किताब पहली किताब हैं . इसमें गुजरात राज्य में जलवायु परिवर्तन और राज्य के आम-जन के इस परिवर्तन से सामना करने के तरीके के बारे में बताया गया हैं

– यह जगsत जननी माँ को लिखे पत्रों की सीरीज है. यह मोदी के अंतर्मन और उनके भावों को बताती हैं
सामाजिक समरसता– यह नरेंद्र मोदी के लेक्चर और आर्टिकल का संग्रह हैं,किताब “अपनी राय को सिर्फ शब्दों में हीं नहीं कामों से भी व्यक्त करो” इस किताब के लिए उपयुक्त मुहावरा हैं. किताब मोदी के सामाजिक सामंजस्य की समझ को बताती हैं जिसमे जाति आधारित कोई वर्गीकरण ना हो.
कन्वीनिएँनट एक्शन: गुजरात रेस्पोंस टू चैलेंजस ऑफ़ क्लाइमेट चेंज : (Convenient Action: Gujarat’s Response to Challenges of Climate Change) अंग्रेजी में प्रकाशित यह किताब पहली किताब हैं . इसमें गुजरात राज्य में जलवायु परिवर्तन और राज्य के आम-जन के इस परिवर्तन से सामना करने के तरीके के बारे में बताया गया हैं

THIS IS LITTLE STORY OR JOURNEY OF NARENDRA MODI LIFE

Related Pictures of Narendra Modi ji